जगत के रंग क्या देखूं Lyrics In Hindi


जगत के रंग क्या देखूं Lyrics In Hindi

जगत के रंग क्या देखूं Lyrics In Hindi

जगत के रंग क्या देखूं Lyrics In Hindi

जगत के रंग क्या देखूं Lyrics In Hindi


जगत के रंग क्या देखूं,
तेरा दीदार काफी है ।
क्यों भटकूँ गैरों के दर पे,
तेरा दरबार काफी है ॥

नहीं चाहिए ये दुनियां के,
निराले रंग ढंग मुझको,
निराले रंग ढंग मुझको ।
चली जाऊँ मैं वृंदावन,
तेरा श्रृंगार काफी है ॥

॥जगत के रंग क्या देखूं…॥

जगत के साज बाजों से,
हुए हैं कान अब बहरे,
हुए हैं कान अब बहरे ।
कहाँ जाके सुनूँ बंशी,
मधुर वो तान काफी है ॥

॥जगत के रंग क्या देखूं…॥

जगत के रिश्तेदारों ने,
बिछाया जाल माया का
बिछाया जाल माया का ।
तेरे भक्तों से हो प्रीति,
श्याम परिवार काफी है ॥

॥जगत के रंग क्या देखूं…॥

जगत की झूटी रौनक से,
हैं आँखें भर गयी मेरी
हैं आँखें भर गयी मेरी ।
चले आओ मेरे मोहन,
दरश की प्यास काफी है ॥
॥जगत के रंग क्या देखूं…॥

जगत के रंग क्या देखूं,
तेरा दीदार काफी है ।
क्यों भटकूँ गैरों के दर पे,
तेरा दरबार काफी है ॥

Also Read : Jagat Ke Rang Kya Dekhun Lyrics In English

Like it? Share with your friends!

131

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जगत के रंग क्या देखूं Lyrics In Hindi

log in

reset password

Back to
log in